Shri Yogi Aditya Nath

Sri Yogi Adityanath

Hon'ble Chief Minister
Uttar Pradesh

Dr Mahendra Singh

Dr Mahendra Singh

Hon'ble Cabinet Minister
Jal Shakti
Uttar Pradesh

  • डॉ महेंद्र सिंह माननीय मंत्री जल शक्ति विभाग द्वारा कमांड एवं कंट्रोल सेंटर, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग, डॉ राम मनोहर लोहिया परिकल्प भवन में दिनांक ०३.०९.२०१९ को समीक्षा बैठक/ निरीक्षण किया गया।
  • डॉ महेंद्र सिंह माननीय मंत्री जल शक्ति विभाग द्वारा कमांड एवं कंट्रोल सेंटर, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग, डॉ राम मनोहर लोहिया परिकल्प भवन में दिनांक ०३.०९.२०१९ को समीक्षा बैठक/ निरीक्षण किया गया।
  • मा. कैबिनेट मंत्री जलशक्ति विभाग डा.महेन्द्र सिंह द्वारा सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ दिनांक 27.08.2019 को समीक्षा बैठक करते हुए।
  • माननीय डॉ महेंद्र सिंह जी कैबिनेट मंत्री जलशक्ति विभाग, उत्तर प्रदेश का दिनांक २७.०८.२०१९ को प्रभार ग्रहण करते हुए।
  • लेसेथो गणराज्य के कृषि एवं खाद्य सुरक्षा मंत्री श्री महाला मोलायो के नेतृत्व में अध्ययन करने पधारे विषेशज्ञ दल ने दिनांक 21.08.2018 को सिंचाई विभाग के मुख्यालय स्थित सभागार में प्रमुख सचिव सिंचाई जल स
  • लेसेथो गणराज्य के कृषि एवं खाद्य सुरक्षा मंत्री श्री महाला मोलायो के नेतृत्व में अध्ययन करने पधारे विषेशज्ञ दल ने दिनांक 21.08.2018 को सिंचाई विभाग के मुख्यालय स्थित सभागार में प्रमुख सचिव सिंचाई जल स
  • माननीय सिंचाई मंत्री श्री धर्मपाल सिंह जी द्वारा केंद्रीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष का दिनांक 18.08.2019 को इं अनूप कुमार श्रीवास्तव, प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष एवं इं अशोक कुमार सिंह, मुख्य अभियंता अनु
  • -
  • -
  • सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के शासन व विभागीय अधिकारिगण दिनांक 9.08.2019 को वृक्षारोपण महाभियान में भाग लेते हुए
  • सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के शासन व विभागीय अधिकारिगण दिनांक 9.08.2019 को वृक्षारोपण महाभियान में भाग लेते हुए
  • सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के शासन व विभागीय अधिकारिगण दिनांक 9.08.2019 को वृक्षारोपण महाभियान में भाग लेते हुए
  • सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के शासन व विभागीय अधिकारिगण दिनांक 9.08.2019 को वृक्षारोपण महाभियान में भाग लेते हुए
  • सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के शासन व विभागीय अधिकारिगण दिनांक 9.08.2019 को वृक्षारोपण महाभियान में भाग लेते हुए
  • मा0 सिंचाई मंत्री श्री धर्मपाल सिंह द्वारा, मा0 मुख्य मंत्री जी द्वारा दिनांक १३ जून २०१९ को सिंचाई विभाग की समीक्षा में दिये गए निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित करने हेतु सिंचाई विभाग मुख्यालय पर वरिष
  • माननीय मुख्यमंत्री श्री याेगी आदित्यनाथ जी लोकभवन, लखनऊ में दिनांक १३ जून २०१९ को सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग की समीक्षा की समीक्षा करते हुऐ।
  • उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने दिनांक लखनऊ में दिनांक  30 मई 2019 को बाढ़ पूर्व तैयारी की समीक्षा बैठक की गई।
  • उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने दिनांक लखनऊ में दिनांक  30 मई 2019 को बाढ़ पूर्व तैयारी की समीक्षा बैठक की गई।
  • माo सिंचाई मंत्री श्री धर्मपाल सिंह जी द्वारा प्रमुख अभियंता कार्यालय में दिनांक २९.०५.२०१९ को विभागीय समीक्षा की गई।
  • श्री ध्यान सिंह प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष द्वारा श्री वी0 क0 निरंजन मुख्य अभियंता एवं श्री सिद्धार्थ कुमार सिंह अधीक्षण अभियंता को प्रशस्ति पत्र प्रदान करते हुए
  • राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी, 2019 को इं0 वी के राठी, प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष, इं पी पी पांडेय, प्रमुख अभियंता(परियोजना) सिंचाई भवन में अधिकारियों व कर्मचारियों को भारत निर्वाचन आयोग द्वारा
Sri Baldev Singh Aulakh

Sri Baldev Singh Aulakh

Hon'ble Minister of State
Jal Shakti
Uttar Pradesh

Sri Vijay Kashyap

Sri Vijay Kashyap

Hon'ble Minister of State for Revenue
Flood Control
Uttar Pradesh

About Us

Description of water resources like wells, canals and dams could be seen at many places in Vedas. In Rig-Veda description of wells, kavat could easily be seen at many places. Water from well, used to be fetched from wheels made of stone, in which container is tied to rope. Wells were not only used to fetch the water for daily use of humans and animals, but were also used for irrigation too. In Rig-Veda word ‘Awta’ is also mentioned which is the symbol of Well. In other hymn word ‘Kulya’ is being mentioned, which means ‘Artificial Canal.’ In Yajurveda one can see the description of ‘digging of canals.’ Even Guru of Devas ‘Brahaspati’ had said that repairing and modification of dams and canals is a holy practice and rich society of state should take its responsibility. Whole this history clears that irrigation sources have always been an important part of civilization and livelihood.

Around 3150 B.C. many epics described the irrigation farming since the time of Mahabharat. When Rishiraj Narad visited King Yudhisthir’s state to meet him in this context, then he questioned him about the condition of farmers in his state, that whether they are healthy or not?

Mechanical Organization

  • No. of working Government tubewells in the state-33,848
  • From total 33,848 working Government tubewells, 24267 Government tubewells have a capacity of 1.5 cusec and remaining 9581 Government tubewells have a capacity of 1.0 cusec. A total irrigation of 29.06 lac hectares is obtained from working Government tubewells in the state.
  • From total 252 small branched canals, irrigation capacity of 1.83 lac hectares is obtained .
  • Total 29 large and medium pump canals are functional. The main work of large and medium canals is carried out by Mechanical Organization while the work of recording the irrigation is carried out by Civil Organization.

News / Updates

Our Progress

View More

Related Websites