नलकूपों से सिंचाई

राजकीय नलकूप

प्रदेश में सिंचाई हेतु उपयोग में आने वाले जल का 70 प्रतिषत भू-जल है। स्पश्ट है कि सिंचाई हेतु भू-जल पर कृषकों की निर्भरता अत्यधिक है एवं इसमें राजकीय नलकूपों का बड़ा योगदान है। योजना काल के पूर्व प्रदेश में कुल 2343 ऊर्जीकृत राजकीय नलकूप थे तथा प्रथम पंचवर्षीय योजना (1951-56) के अन्त तक कुल 4734 ऊजीकृत राजकीय नलकूप थे। 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) के वर्ष 2015-16 के अन्त तक कुल 39680 राजकीय नलकूप ऊर्जीकृत किये जा चुके थे। वर्ष 1989-90 में कुल चलित राजकीय नलकूपों की संख्या 26289 थी, जो बढ़कर वर्ष 2015-16 में 32047 हो गयी थी। वर्तमान में (दिनाॅक 01.04.2016 को) प्रदेश में कुल 33375 राजकीय नलकूप चलित हैं, जिनके द्वारा प्रदेश में कृषकों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। इन 33375 राजकीय नलकूपों में से 25205 राजकीय नलकूप 1.5 क्यूसेक क्षमता के तथा 8170 राजकीय नलकूप 1.0 क्यूसेक क्षमता के हैं। इन राजकीय नलकूपों से 29.29 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता का सृजन हुआ है। सिंचाई नलकूपों के अतिरिक्त याॅत्रिक संगठन द्वारा पष्चिम उत्तर प्रदेश के जनपद बुलन्दशहर में 13 अद्द एवं जनपद अलीगढ़ में 16 अद्द कुल 29 अद्द संवर्धन राजकीय नलकूपों का भी संचालन किया जाता है, जिनके द्वारा पानी की कमी के समय नहरों में पानी की आपूर्ति की जाती है। प्रदेश में चलित राजकीय नलकूपों का विवरण परिषिश्ट-1 में दी गयी है।

कृषि

विगत 27 वर्शों में (1989-90 से 2015-16 तक) राजकीय नलकूपों की सींच 10.40 लाख हेक्टेयर प्रतिवर्ष से बढ़कर 18.86 लाख हेक्टेयर प्रतिवर्ष हो गयी है। प्रति नलकूप सिंचित क्षेत्र 39.53 हेक्टेयर प्रतिवर्ष से बढ़कर 58.87 हेक्टेयर प्रतिवर्ष हो गया है। वर्ष 1989-1990 से वर्ष 2015-16 तक राजकीय नलकूपों द्वारा सिंक्षित क्षेत्र एवं चलित घंटों का विवरण परिषिश्ट-4 में दी गयी है।

इसी प्रकार विगत 24 वर्षाे में (1992-93 से 2015-16 तक) लघु डाल नहरों की सींच 81767 हेक्टेयर प्रतिवर्ष से बढ़कर 147257 हेक्टेयर प्रतिवर्ष हो गयी है। औसत सींच 25.85 हेक्टेयर प्रति क्यूसेक से बढ़कर 36.86 हेक्टेयर प्रति क्यूसेक हो गयी है। वर्श 1992-93 से वर्ष 2014-15 तक लघु डाल नहरों द्वारा सिंक्षित क्षेत्र का विवरण परिषिश्ट-5 में दी गयी है।